Uttarakhand: Mazari Hindu in shock. Bulldozers cleared 26 mausoleums, no dead body came out from under. Now 1400 more will be cleaned.”

उत्तराखंड सरकार की इस कार्रवाई से मजारी हिंदू अवश्य ही जार जार रो रहे होंगे।

सनातन 🚩समाचार🌎 आखिर उत्तराखंड की सरकार नींद से जाग ही गई है और अवैध मजारों को तोड़ा गया है, क्योंकि पिछले बहुत सालों से उत्तराखंड के जंगलों में धड़ाधड़ हर रोज नई-नई मजारें उग रही थीं जिनके बारे में जंगलात विभाग देख कर भी आंखें मूंदे रहता था।

बताने की आवश्यकता नहीं है कि इन अवैध मजारों के खिलाफ उत्तराखंड की राधा धोनी जी ने अपने साथियों समाहित बहुत जबरदस्त अभियान छेड़ रखा है जिसके चलते वह खुद अपने हाथों से बहुत सारी मजारे तोड़ रही हैं। आखिर उनके मजार विरोधी अभियान से शायद शर्मिंदा होकर ही अब उत्तराखंड सरकार ने अवैध बनी हुई मजारों को हटाने का निर्णय लिया है। मीडिया सूत्रों की माने इस अभियान के अंतर्गत 26 अवैध मजारों को बुलडोजरो की सहायता से साफ कर दिया गया है।

बता दें कि यह सभी मजारे उत्तराखंड के वन विभाग की जमीनों पर बनाई गई थी। मजार उसे कहते हैं जहां पर कोई मरा हुआ व्यक्ति दबाया गया हो किंतु यहां दिलचस्प बात यह है कि जितनी भी मजारे साफ की गई हैं उनमें किसी के भी नीचे से कोई मुर्दा नहीं निकला है। उत्तराखंड सरकार ने लगभग 1400 ऐसे स्थानों की सूची बनाई है जो किसी ना किसी प्रकार से मजहबी दृष्टि से अथवा मजारे बनाकर कब्जाई गई हैं। अतिक्रमण करके बनाई गई अवैध मजारों को हटाने के साथ-साथ अब उत्तराखंड सरकार अन्य अतिक्रमण को भी हटाने के मूड में है।

अवैध अतिक्रमण के साथ ही यह खबरें भी सामने आ रही हैं की उत्तराखंड में बाहरी राज्यों के साथ-साथ अवैध बांग्लादेशी घुसपैठिए भी आकर रहने लगे हैं। जिसके चलते अब देर से चेती सरकार उत्तराखंड में खासकर देहरादून में झुग्गी झोपड़ी बनाकर रहने वालों का सत्यापन करने में भी जुट गई है। इसके साथ ही बुलडोजर और ट्रैक्टरों को भी अवैध अतिक्रमण हटाने के लिए तैयार रखा गया है। उत्तराखंड सरकार की इस कार्रवाई के बारे में जब अवैध मजारों को तोड़ने वाली राधा धोनी से इस बारे में बात की गई तो उन्होंने उन्होंने कहा है कि यह उत्तराखंड की बहुत बड़ी समस्या है।

उत्तराखंड: मजारी हिंदुओं को रुला रही है अवैध मजारों को तोड़ने वाली ये टीम

मैं पिछले कई सालों से अवैध मजारों के खिलाफ संघर्ष कर रही हूं। मैंने बहुत सारी मजारें तोड़ी भी हैं। किंतु समस्या केवल मजारों की ही नहीं है बल्कि उत्तराखंड के डेमोग्राफी को चेंज करने के लिए योजनाबद्ध तरीके से बाहरी राज्यों से मजहबी लोगों को लाकर यहां बसाया जा रहा है। उन्होंने आगे कहा कि हैरानी तो इस बात की है कि आखिर प्रशासन द्वारा अवैध घुसपैठियों को किस आधार पर बिजली और पानी के कनेक्शन दिए जाते हैं ? यहां राधा धोनी ने उत्तराखंड सरकार से ये सवाल भी किया है की वो बताए की कौन कौन सी 26 मजारों को तोड़ा गया है ?

बिमारी यहां भी है

बहरहाल उन्होंने कहा है कि बेशक सरकार ने कुछ कदम उठाए हैं किंतु उनका अवैध मजारों को तोड़ने का अभियान लगातार चलता रहेगा। और आखिर वह देव भूमि उत्तराखंड को मजार मुक्त करके ही दम लेगी।

हिंदू द्रोही मीडिया के लिए बहुत फंडिंग है, किंतु हिंदुत्ववादी मीडिया को अपना खर्चा चलाना भी मुश्किल है। हिंदुत्व/धर्म के इस अभियान को जारी रखने के लिए कृपया हमे DONATE करें। Donate Now या 7837213007 पर Paytm करें या Goole Pay करें।

By Ashwani Hindu

अशवनी हिन्दू (शर्मा) मुख्य सेवादार "सनातन धर्म रक्षा मंच" एवं ब्यूरो चीफ "सनातन समाचार"। जीवन का लक्ष्य: केवल और केवल सनातन/हिंदुत्व के लिए हर तरह से प्रयास करना और हिंदुत्व को समर्पित योद्धाओं को अपने अभियान से जोड़ना या उनसे जुड़ जाना🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *