The court said: Remove the illegal mausoleum built at the station, the answer was “if the mausoleum is broken, it will not be fine” Congress leader said.”

कभी हिंदुस्थान में मंदिर ही मंदिर हुआ करते थे पर अब जिधर देखो मजारें ही मजारें है हिंदुस्थान में।

सनातन 🚩समाचार🌎 यह एक यह एक सच्चाई है कि हिंदुस्तान में कभी हर जगह मंदिर ही हुआ करते थे परंतु आज देश का कोई शहर कस्बा या गांव ऐसा नहीं है जहां पर मजार ना हो। और मजे की बात यह है की मजारों फर जाना इस्लाम मैं गुनाह है इसलिए वहां पर कोई मुसलमान नहीं जाता है। मजारों पर जाने वाले सभी हिंदू ही होते हैं। और यह भी सच है किस सनातन धर्म में मजार नाम की किसी भी वस्तु या स्थान का कोई भी महत्व है जी नहीं।

ऐसी बहुत सारी मजारें हैं जो रेलवे स्टेशन मे लाइनों के बीचो-बीच बनी हुई हैं। जिनके बारे में अक्सर सवाल उठते रहते हैं। बता दें की रेलवे की भूमि पर बने हुए लगभग सभी मंदिरों को तोड़ा जा चुका है। परंतु मजारें जस की तस हैं। अब ऐसी एक मजार को को अदालत के आदेश से हटाए जाने के प्रयासों को उस समय बड़ा झटका लगा है जब इस रेलवे स्टेशन पर बनी हुई इस मजार के समर्थन में सभी मुसलमानों सहित कांग्रेस के एक बड़े नेता इसके समर्थन में आ गए आ गए हैं।

दरअसल बरेली के इज्जत नगर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1 पर एक मजार बनी हुई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार अदालत के आदेश के बाद रेलवे प्रशासन इसको हटाने की कार्रवाई में जुट गया है। और उसने इस अतिक्रमण को हटाने के लिए मजार की दीवार पर नोटिस चिपका दिया दिया है। इस नोटिस में मजार की देख रेख करने वालों से कहा गया है कि 28 दिसंबर 2022 तक इस अवैध अतिक्रमण को खुद ही हटा लीजिए अन्यथा इसे तोड़ दिया जाएगा। इस नोटिस का मुस्लिम नेताओं ने विरोध करते हुए रेलवे विभाग को दो टूक उत्तर दिया है कि “अगर मजार तोड़ी गई तो ठीक नहीं होगा”

बता दें कि मजार तोड़े जाने के विरोध में कांग्रेसी नेता डॉक्टर मेहंदी हसन खुलकर मजार के समर्थन में आ गए हैं। कांग्रेसी नेता के अनुसार इस मजार से गाड़ियों के आने जाने में कोई दिक्कत नहीं हो रही है। उन्होंने इस मजार को हटाने के काम को नापाक साजिश करार दिया है, और चेतावनी दी है कि इससे बरेली का माहौल खराब होगा। कांग्रेसी नेता के इस बयान के बाद स्टेशन पर बनी अवैध मजार के समर्थन में सैकड़ों की संख्या में मुस्लिम लोग रेलवे स्टेशन पर जमा हो गए।

भारी संख्या में लोगों के स्टेशन पर पहुंच जाने के बाद रेलवे व पुलिस प्रशासन के द्वारा भारी संख्या में वहां पर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। जिस कारण स्टेशन पर हड़कंप मचा रहा। ईकट्ठा हुए लोगों का कहना था कि इस मजार को थोड़ा जाना गैरकानूनी है इसको तोड़ने से मुसलमानों की भावनाएं आहत होंगी। बताने की आवश्यकता नहीं है की मजार का इस्लाम में कोई महत्व नहीं है।

मजार के बारे में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और जमा ए रजा मुस्तफा के राष्ट्रीय सचिव डॉ मेहंदी हसन का कहना है कि हमारी मांग जायज है। यह मजार बहुत पुरानी है हाल ही में इसका सौंदर्य करण भी किया गया है। हम प्रशासन को बता देना चाहते हैं कि हम अमन और चैन से रहना चाहते हैं इसलिए इस मजार को ना हटाया जाए।

वीडियो खबर से हटके

हिंदू द्रोही मीडिया के लिए बहुत फंडिंग है, किंतु हिंदुत्ववादी मीडिया को अपना खर्चा चलाना भी मुश्किल है। हिंदुत्व/धर्म के इस अभियान को जारी रखने के लिए कृपया हमे DONATE करें। Donate Now या 7837213007 पर Paytm करें या Goole Pay करें।

By Ashwani Hindu

अशवनी हिन्दू (शर्मा) मुख्य सेवादार "सनातन धर्म रक्षा मंच" एवं ब्यूरो चीफ "सनातन समाचार"। जीवन का लक्ष्य: केवल और केवल सनातन/हिंदुत्व के लिए हर तरह से प्रयास करना और हिंदुत्व को समर्पित योद्धाओं को अपने अभियान से जोड़ना या उनसे जुड़ जाना🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *