Had taken Asana after killing Raktabeej in Salkanpur of Madhya Pradesh – “Vijayasan Devi Dham” Know everything.”

रक्तबीज का वध करके विजई हुई मां ने यहां आसन ग्रहण किया तो इस स्थान का नाम हुआ विजयासन देवी।

सनातन🚩समाचार🌎 मध्य प्रदेश में विंध्यवासनी बीजासन देवी का यह पवित्र सिद्धपीठ देवी “दुर्गा” रेहटी तहसील मुख्यालय के पास सलकनपुर गाँव में एक 800 फुट ऊँची पहाड़ी पर सथित है। यह एक प्राचीन मंदिर हैं एवं कई चमत्कारी कथाएं एवं प्रसंग धार्मिक पुस्तकों में पढ़ने को मिलते हैं। मंदिर तक पहुंचने के लिए पैदल मार्ग, तथा सीढ़ियां मार्ग भी है जिसमे लगभग 1400 सीढ़ियां हैं। यहाँ रोपवे की सुविधा भी उपलब्ध है। इसका रख रखाव सलकनपुर ट्रस्ट द्वारा किया जाता है।

विवरण …….

लगभग 300 वर्ष पूर्व पशुओं का व्यापार करने वाले बंजारे एक बार इस स्थान पर विश्राम और चारे के लिए रूके। अचानक ही उनके पशु अदृष्य हो गए। बंजारे पशुओं को ढूंडने के लिए निकले, तो उनमें से एक बृद्ध बंजारे को एक कन्या मिली। कन्या के पूछने पर बृद्ध बंजारे ने सारी बात कही। तब कन्या ने कहा की आप यहां देवी के स्थान पर पूजा-अर्चना कर अपनी मनोकामना पूर्ण कर सकते हैं। बंजारे ने कहा कि हमें नही पता है कि मां भगवति का स्थान कहां है ?

मां के दर्शन

तब कन्या ने संकेत से एक स्थान पर एक पत्थर फेंका। जिस स्थान पर पत्थर फेंका वहां मां भगवति जी के दर्शन हुए। उन्होने मां भगवति की पूजा-अर्चना की। कुछ ही क्षण बाद उनके खोए पशु मिल गए। मनोकामना पूरी होने पर चमत्कार से अभिभूत बंजारों ने मंदिर का निर्माण करवाया। इसके बाद पहाड़ी के नीचे ग्रामीणों का आना जाना शुरू हो गया और मनोकामनाएं पूरी होने के कारण भक्तों की संख्या में निरंतर वृद्धि होती जा रही है। 

पुकार कभी खाली नहीं जाती

मां बिजासन के दरबार में दर्शनार्थियों की कोई पुकार कभी खाली नहीं जाती है। माना जाता है कि मां विजयासन देवी पहाड़ पर अपने परम दिव्य रूप में विराजमान हैं। विध्यांचल पर्वत श्रंखला पर विराजी माता को विध्यवासिनी देवी भी कहा जाता है। पुराणों के अनुसार देवी विजयासन माता पार्वती का ही अवतार हैं, जिन्होंने देवताओं के आग्रह पर रक्तबीज नामक राक्षस का वध किया था और सृष्टि की रक्षा की थी। विजयासन देवी को कई लोग कुलदेवी के रूप में भी पूजते हैं।

 

देवी मंदिर 1000 फीट ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। देवी मां का यह स्थान भोपाल से 75 किमी दूर है। नवरात्रों में सलकनपुर देवी मंदिर में लाखों लोग देवी दर्शन के लिए आते हैं। इस पहाड़ी पर जाने के लिए कुछ वर्षों में सड़क मार्ग भी बना दिया गया है। रोप-वे से यहां 5 मिनट में पहुंचा जा सकता है। मां विजायासन धाम के प्राकट्य का का सटीक उल्लेख श्रीमद् भागवत महापुराण में है। 

सलकनपुर मंदिर विवरण ………

श्रीमद् भागवत कथा के अनुसार जब रक्तबीज नामक देत्य से त्रस्त होकर जब देवता देवी की शरण में पहुंचे। तो देवी ने विकराल रूप धारण कर लिया। और इसी स्थान पर रक्तबीज का संहार कर उस पर विजय पाई। मां भगवति की इस विजय पर देवताओं ने जो आसन दिया, वही विजयासन धाम के नाम से विख्यात हुआ। मां का यह रूप विजयासन देवी कहलाया।

धाम का सम्पूर्ण विवरण

धुने की स्थापना ……

हिंसक जानवरों, चौसठ योग-योगिनियों का स्थान होने से कुछ लोग यहां पर आने में संकोच करते थे। तब स्वामी भद्रानंद जी ने यहां तपस्या कर चौसठ योग-योगिनियों को किसी अन्य स्थान पर स्थापित कर दिया, फिर मंदिर के समीप ही एक धुने की स्थापना की और इस स्थान को चैतन्य कर दिया। इस धुने में एक अभिमंत्रित चिमटा है, जिसे तंत्र शक्ति से अभिमंत्रित कर तली में स्थापित किया गया है। आज भी इस धुने की भवूत को ही मुख्य प्रसाद के रूप में भक्तगणों को वितरित किया जाता है।

विंध्यवासनी बीजासन देवी सलकनपुर मंदिर कैसे पहुंचें

वायु मार्ग: भोपाल-नसरुल्लागंज रोड पर राजा भोज एयर पोर्ट भोपाल से 70 किलोमीटर दूरी पर स्थित है।

ट्रेन द्वारा: बुदनी रेलवे स्टेशन से 15 कि.मी. दूरी पर स्थित है। आप होशंगाबाद (38 किलोमीटर की दूरी) या भोपाल स्टेशन (70 किलोमीटर की दूरी) पर भी उतर सकते हैं। 

सड़क मार्ग: भोपाल से 70 किलोमीटर एवं होशंगाबाद से 38 किलोमीटर की दूरी पर भोपाल-नसरुल्लागंज रोड पर ये धाम स्थित है।

… 🚩जय मां विंध्यवासिनी🙏 ..

हिंदू द्रोही मीडिया के लिए बहुत फंडिंग है, किंतु हिंदुत्ववादी मीडिया को अपना खर्चा चलाना भी मुश्किल है। हिंदुत्व/धर्म के इस अभियान को जारी रखने के लिए कृपया हमे DONATE करें। Donate Now या 7837213007 पर Paytm करें या Goole Pay करें।

By Ashwani Hindu

अशवनी हिन्दू (शर्मा) मुख्य सेवादार "सनातन धर्म रक्षा मंच" एवं ब्यूरो चीफ "सनातन समाचार"। जीवन का लक्ष्य: केवल और केवल सनातन/हिंदुत्व के लिए हर तरह से प्रयास करना और हिंदुत्व को समर्पित योद्धाओं को अपने अभियान से जोड़ना या उनसे जुड़ जाना🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *