कभी ये संघर्ष काश्मीर में होते थे पर अभी बहुत गद्दारीयां हैं देश मे।

सनातन🚩समाचार🌎 कल 26 जनवरी का पवित्र दिन जहां एक ओर सभी देश भक्त सारे देश में देश की शान तिरंगा फहरा रहे थे वहीं पर हिंदुस्तान में ही देशभक्त एक स्थान पर अपना तिरंगा फहराने के लिए पुलिस से पिट रहे थे और गिरफ्तार हो रहे थे। जी हां यह भी हुआ है कल हिंदुस्तान में। यह पहले होता था कश्मीर में परंतु अभी भी ना जाने कितने पाकिस्तान है हिंदुस्तान में जहां पर तिरंगा नहीं फहराया जा सकता। प्रत्येक देश भक्त को झकझोर देने वाली यह घटना घटी है आंध्र प्रदेश में।

आंध्र प्रदेश की गुंटूर पुलिस ने गणतंत्र दिवस के मौके पर उस समय हिंदू वाहिनी के कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया जब वह जिन्ना टावर पर तिरंगा फहराने जा रहे थे। जैसा कि दुनिया जानती है कि जिन्ना उस व्यक्ति का नाम था जिसने भारत माता के दो टुकड़े करवाए और पाकिस्तान बनवाया। जब देश का बंटवारा हुआ जवाहरलाल नेहरू कथित महात्मा गांधी और जिन्ना ही सारे देश के सर्वे सर्वा थे। इस तिकड़ी ने ही घालमेल करके मां भारती के दो टुकड़े कर दिए और मुसलमानों के लिए एक टुकड़ा पाकिस्तान जिन्ना को दे दिया गया।

यह बात अलग है कि उस बंटवारे के बाद हिंदुस्तान में बहुत सारे मुसलमान रह गए। यह तो हुआ था सन 1947 में जिन्ना के कारण परंतु उस दानव को अभी भी हिंदुस्तान में रहने वाले कुछ गद्दार अपना मानते हैं परंतु यह लोग जिन्ना के पाकिस्तान में नहीं जाते हैं। कल 26 जनवरी को हुए इस हादसे का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें स्पष्ट देखा जा सकता है कि कुछ देशभक्त हाथों में तिरंगा लिए हुए हैं उनमें से एक को पुलिस ने दबोच रखा है। वह आगे बढ़कर जिन्ना टावर पर देश की शान तिरंगा फहराना चाहता है परंतु पुलिस उसे आगे नहीं बढ़ने देरही। धक्का-मुक्की करते हुए उसे गिरफ्तार किया जा रहा है।

बता दें कि हिंदू वाहिनी के यह लोग मां भारती के दो टुकड़े करने वाले के नाम पर बने हुए इस जिन्ना टावर पर तिरंगा फहराना चाहते थे। यह लोग भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगा रहे थे परंतु पुलिस ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। पुलिस ने टावर के चारों ओर बेरिकेड लगा दिए तथा सुरक्षा बढ़ा दी ताकि कोई भी वहां पर प्रवेश न कर सके। अपने ही देश में अपने देश का तिरंगा नहीं फहरा सकने के कारण देश के सभी देशभक्त नागरिक बहुत आक्रोशित हैं। सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल होने के बाद सवाल उठ रहा है कि हिंदुस्तान में अभी भी जिन्ना के नाम का कोई मीनार आखिर क्यों बना हुआ है ?

बता दें कि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के भाजपा नेताओं ने लगातार गुंटूर के जिन्ना टावर का नाम बदलकर स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रखने की मांग उठाई हुई है। कल गुंटुर पुलिस द्वारा एक गद्दार के नाम पर बने हुए इस टावर पर तिरंगा फहराया जाने से रोकने पर पिटाई किए जाने और गिरफ्तार किए जाने पर विवाद बढ़ता नजर आ रहा है। भाजपा की प्रदेश इकाई के नेताओं ने इस टॉवर का नाम बदलने की मांग करते हुए कहा है कि 75 वर्षों बाद भी एक गद्दार के नाम पर इसी टावर का नाम होना भारत माता का घोर अपमान है।

देशभक्तों का वायरल वीडियो

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय सचिव वाई. सत्य कुमार और तेलंगाना के बीजेपी विधायक राजा सिंह ने इस जिन्ना टावर का नाम बदल कर इसे एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रखने की मांग की हुई है। कल की इस घटना पर वाई. सत्य कुमार ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगमोहन रेड्डी से इस टावर को विशेष सुरक्षा देने को लेकर सवाल किया है की ऐसा इस जिन्ना नाम के टावर में क्या है ? जबकि दूसरी और गुंटूर में ही 102 साल पुराने भगवान श्री राम जी के मंदिर को तोड़ा जा रहा है।

बहरहाल कल हुई इस घटना से हर एक देशभक्त बहुत दुखी है और सोशल मीडिया पर तो यह चर्चा बहुत ज्यादा है कि आखिर हिंदुस्तान में एक गद्दार के नाम का यह टावर क्यों है ??

Hoisting the tricolor was the right of every patriot, arrest, because there is Jinnah Tower in Hindustan

हिंदू द्रोही मीडिया के लिए बहुत फंडिंग है, किंतु हिंदुत्ववादी मीडिया को अपना खर्चा चलाना भी मुश्किल है। हिंदुत्व/धर्म के इस अभियान को जारी रखने के लिए कृपया हमे DONATE करें। Donate Now या 7837213007 पर Paytm करें या Goole Pay करें।

By Ashwani Hindu

अशवनी हिन्दू (शर्मा) मुख्य सेवादार "सनातन धर्म रक्षा मंच" एवं ब्यूरो चीफ "सनातन समाचार"। जीवन का लक्ष्य: केवल और केवल सनातन/हिंदुत्व के लिए हर तरह से प्रयास करना और हिंदुत्व को समर्पित योद्धाओं को अपने अभियान से जोड़ना या उनसे जुड़ जाना🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *